स्तनों पर वीर्य गिराकर सफेद किया

Antarvasna, hindi sex kahani, kamukta:

Stanon par veerya girakar safed kiya शायद मेरे जीवन में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा था पिछले दो वर्षों से जिस लड़की से मैं प्यार करता था उसने अचानक से मुझे एक दिन मना कर दिया और कहने लगी कि हम दोनों का रिश्ता अब आगे नहीं बढ़ सकता। मैं अपने आप को किसी मूर्ख की भांति ही महसूस कर रहा था कि उसने दो वर्ष मेरे ऐसे ही बर्बाद कर दिए मुझे उसने बहुत बड़े धोखे में रखा लेकिन मुझे अभी तक सच्चाई का पता नहीं चल पाया था। मैं इसी परेशानी से जूझ रहा था कि आखिर उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया लेकिन इसका जवाब मेरे पास तो नहीं था। इन दो वर्षों में हम लोगों ने कितने दिन साथ में अच्छे बिताए और सब कुछ अच्छे से चल रहा था लेकिन अचानक से उसने मुझे कहा कि हम दोनों का रिश्ता ठीक नहीं चल रहा है। इस बात से मैं बहुत ज्यादा तकलीफ में था लेकिन फिर भी मुझे अपने ऑफिस तो जाना ही था परंतु मेरा मन मेरे काम में बिल्कुल भी नहीं लग रहा था और मैं सोचने लगा कि यदि ऐसा ही चलता रहा तो कहीं मुझे अपने काम से भी इस्तीफा ना देना पड़े।

मेरा मन बिल्कुल भी मेरे काम के प्रति नही लग रहा था मैं बहुत ही ज्यादा परेशान था मेरी मम्मी मुझसे पूछने लगी की राजीव मैं देख रही हूं तुम कुछ दिनों से बहुत ज्यादा परेशान लग रहे हो। मैं शायद किसी से भी अपने दिल की बात को साजा नहीं कर सकता था क्योंकि मेरे और मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में किसी को भी कोई जानकारी नहीं थी और ना ही मैंने इस बारे में किसी को बताया था। मैं अंदर ही अंदर घुट रहा था लेकिन मुझे कोई तो ऐसा सच्चा दोस्त चाहिए था जिसे कि मैं सब बता पाता लेकिन फिलहाल मेरे पास कोई भी ऐसा नहीं था जिसे मैं यह सब बताता। मैं बहुत ज्यादा परेशान हो चुका था और मेरी परेशानी का कारण सिर्फ मेरा टूटा हुआ रिश्ता था समय के साथ साथ मेरे जख्म भी भरते जा रहे थे मेरा टूटा हुआ रिश्ता मैं भूलने लगा था और अपने काम पर पूरा ध्यान देने लगा लेकिन जब मुझे संजना की बेवफाई का पता चला कि उसने मुझे क्यों छोड़ा तो मैं इस बात से बहुत दुखी हुआ।

संजना को एक पैसे वाले परिवार से रिश्ता आया था और संजना ने मुझसे झूठ कहा था संजना ने उससे शादी करने का फैसला कर लिया था। संजना चाहती थी कि किसी तरह से वह मुझ से अपना रिश्ता खत्म कर ले और अपने जीवन में आगे बढ़ जाए लेकिन मैं संजना की इस बेवफाई को कभी भूल नहीं पाऊंगा। मेरे दिल में सिर्फ यही था कि मैं अपने जीवन में कुछ अच्छा करुं और एक मुकाम हासिल करुं मैं अपनी मेहनत के बलबूते यह सब हासिल करना चाहता था लेकिन मेरे सफर में ना जाने कितनी मुश्किले आने वाली थी। थोड़े ही समय बाद मेरे पिताजी की तबीयत खराब रहने लगी और वह अपनी नौकरी छोड़कर घर पर रहने लगे क्योंकि उनकी तबीयत बहुत ज्यादा खराब रहती थी इसलिए उनकी जिम्मेदारी का जिम्मा भी अब मेरे कंधों पर आ चुका था। घर में मैं ही बड़ा था इसलिए सब कुछ अब मेरे ऊपर ही आ चुका था लेकिन उसके बावजूद भी मैंने अपने माता पिता की पूरी सेवा की और उन्हें कभी भी इस बात का अहसास नहीं होने दिया कि मेरा मन कहीं और है। मैंने हमेशा ही उनका साथ दिया जीवन में अब सब कुछ अच्छा चलने लगा था मेरे लिए भी शादी के रिश्ते आने लगे थे लेकिन मैंने अपनी मां से साफ तौर पर कह दिया था कि मैं अभी शादी नहीं करना चाहता हूं। मेरे दिल में एक जुनून था कि मुझे कुछ करना है उसी के लिए मैं मेहनत कर रहा था और मेहनत करते हुए मैं अब बहुत ज्यादा तो नहीं पर थोड़ी बहुत तरक्की कर चुका था। मैंने अपनी जॉब छोड़ दी थी और अपने एक परिचित के साथ मिलकर मैंने पार्टनरशिप में ट्रांसपोर्ट का बिजनेस खोल लिया। शुरुआत में तो हमें इतना ज्यादा मुनाफा नहीं हुआ लेकिन धीरे-धीरे समय के साथ हमें अब मुनाफा होने लगा था और सब कुछ ठीक चल रहा था। मेरे जीवन में जो अकेलापन था उसे मैं अभी तक पूरा नहीं कर पाया था मेरी जिंदगी में अभी तक कोई भी आ नहीं पाया था इसीलिए तो अभी तक मैं कुंवारा था। एक दिन मेरी मौसी की लड़की हमारे घर पर आई हुई थी उसके साथ उसकी सहेली भी थी जब वह हमारे घर पर आई तो उसकी सहेली को देख मुझे अच्छा लगा लेकिन मुझे नहीं पता था कि उसकी सहेली के दिल में भी मेरे लिए कुछ चल रहा होगा।

आग एक ही तरफ से नहीं दोनों तरफ से लगी हुई थी उसकी सहेली ने मेरा नंबर लेकर मुझे फोन करना शुरू किया लेकिन वह मुझसे बात नहीं करती थी शायद वह शरमाती थी इसी वजह से तो उसने मुझसे बात नहीं की थी। एक दिन मुझे जब वह मिली तो मुझे देखकर वह बड़ी शरमा रही थी परंतु मैंने उससे बात कर ली उसका नाम मोनिका है। जब मैं मोनिका से बात कर रहा था तो मुझे उससे बात कर के अच्छा लगा मैंने उससे मिलने का फैसला किया क्योंकि उस दिन हम लोगों की बात ज्यादा देर तक नहीं हो पाई मैं उससे अकेले में मिलना चाहता था और मैंने मोनिका से मिलने का फैसला किया। हम दोनों की सहमति से हम दोनों एक रेस्टोरेंट में मिले वहां जब हम दोनों साथ में बैठे हुए थे तो मुझे मोनिका के बारे में बहुत सारी चीजे जानने का मौका मिला मोनिका बड़ी ही शर्मीली है। हालांकि वह मुझसे खुलकर बात नहीं कर पा रही थी लेकिन उसके बावजूद भी उसने मुझसे बहुत देर तक बात की अब हम दोनों ही एक दूसरे से खुलकर बात कर रहे थे और मुझे इस बात की बड़ी खुशी थी कि कम से कम मोनिका मेरे जीवन में तो आ चुकी है। मोनिका की रजामंदी हम दोनों के रिश्ते पर मुहर लगा चुकी थी हम दोनों एक दूसरे के साथ रिलेशन में थे हालांकि मेरी मुलाकात मोनिका से कम ही हुआ करती थी।

मोनिका भी अपनी कॉलेज की पढ़ाई खत्म होने के बाद घर पर ही रहती थी उसके परिवार वाले उसे घर से बाहर कम ही भेजा करते थे और मोनिका मुझसे कम ही मिला करती थी लेकिन हम दोनों की फोन पर बातें होती रहती थी। मैं चाहता था कि मोनिका को सब कुछ अपने बारे में बताऊं इसलिए मैंने मोनिका को अपने पुराने किस्से के बारे में भी बता दिया परंतु मोनिका को इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी और हम दोनों का रिश्ता आगे बढ़ने लगा। मोनिका ने मेरा बहुत साथ दिया मोनिका ही मेरी सबसे बड़ी ताकत थी क्योंकि वह हमेशा मेरे साथ खड़ी रहती। मोनिका के मेरे जीवन में आने से मेरी सारी तकलीफें दूर होने लगी थी मुझे मोनिका का साथ भी मिल चुका था मोनिका और मैं एक दूसरे को ज्यादा से ज्यादा समय देने की कोशिश करते। हम दोनों जब भी एक दूसरे को समय देते तो हम दोनों के बीच किस जरूर हो जाया करता था लेकिन यह सब अब ज्यादा ही आगे बढ़ने लगा एक दिन जब मेरा हाथ मोनिका के स्तनों की ओर बडा तो मैंने उसके स्तनों को दबा दिया और उसके स्तनों का मैने जिस प्रकार से दबाया मुझे बड़ा ही मजा आया और मोनिका भी बहुत खुश थी। मैं अब मोनिका की चूत मारना चाहता था मोनिका भी मेरे लिए बहुत ज्यादा तड़प रही थी मोनिका मेरे लंड को चूत में लेना चाहती थी इसी के लिए उसने मुझे कहा कि तुम मुझे कभी अकेले में मिलो। मोनिका और मैं दोनों ही एक दूसरे के लिए तड़प रहे थे हम दोनों जब एक दूसरे को अकेले में मिले तो मुझे बहुत ही अच्छा लगा मेरा दिल बहुत ही ज्यादा खुश था मैं मोनिका की चूत मारने वाला हूं। मैंने मोनिका को अपनी बाहों में ले लिया और मोनिका के स्तनों को दबाने लगा मोनिका के स्तनों को दबाने में मुझे बड़ा आनंद आता उसकी चूत के अंदर में अपने लंड को डालना चाहता था लेकिन मोनिका चाहती थी कि पहले हम दोनों जमकर एक दूसरे के साथ मज़े करें। मैंने मोनिका के स्तनों को जैसे ही छुआ तो मोनिका तड़पने लगी और कहने लगी चलो ना बिस्तर पर चलते हैं? हम दोनों बिस्तर पर बैठे हुए थे मैंने मोनिका के बदन को छूना शुरू किया तो वह और भी ज्यादा तड़पने लगी वह बिस्तर पर लेट चुकी थी।

मैं उसके स्तनों को दबाना चाहता था इसके लिए मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू किए जब मैंने उसके कपड़े उतारे तो उसकी ब्रा हम दोनों के बीच में रुकावट पैदा कर रही थी। मैंने उसकी ब्रा को उतार फेंका मैने उसके स्तनों को मुंह में लिया तो वह अपने मुंह से सिसकिया लेने लगी उसे बड़ा मजा आ रहा था मैंने अपने लंड को उसकी चूत के अंदर घुसाने की कोशिश की लेकिन उसकी चूत के अंदर लंड नहीं जा रहा था यह सब इतना आसान नहीं होने वाला था। मैंने जैसे ही अपने लंड पर तेल लगाया तो मोनिका की चूत मे जाने के लिए तैयार था लेकिन मोनिका ने मुझे कहा कि मैं तुम्हारे लंड का रसपान करना चाहती हूं? मोनिका ने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर ले लिया वह मेरे लंड को बड़े अच्छे से चूसने लगी उसे बड़ा ही आनंद आ रहा था। मेरे अंदर की गर्मी और भी ज्यादा बढ़ने लगी थी मैंने मोनिका की चूत पर अपने लंड को लगाया तो उसकी चूत से निकलता हुआ पानी बहुत ही ज्यादा गर्म था मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत के अंदर अपने लंड को प्रवेश करवाया तो मोनिका की सील पैक चूत से खून आने लगा।

वह मुझे कहने लगी तुम मुझे और तेजी से धक्के मारो मैंने उसे बहुत तेजी से धक्के मारने शुरू किए मोनिका ने मुझे अपने दोनों पैरों के बीच में जकडने की कोशिश की लेकिन मेरे धक्के के वह हिल जाती और अपने दोनों पैरों को खोलने के लिए मैंने उसे मजबूर कर दिया था। मेरा लंड उसकी चूत के अंदर बाहर हो रहा था और उसके स्तनों को मैं अपने मुंह में लेकर चूसता तो वह और भी ज्यादा उत्तेजित हो जाती। हम दोनों एक दूसरे के साथ 10 मिनट तक संभोग का आनंद लेते रहे लेकिन 10 मिनट बाद मेरे लंड से कुछ ज्यादा ही गर्मी बाहर निकलने लगी और मोनिका की चूत से भी ज्यादा पानी निकलने लगा। मोनिका मुझे कहने लगी राजीव तुम मेरी चूत के अंदर अपने माल को गिरा दो मैंने उसे कहा मैं अपने माल को गिराना चाहता हूं। मैंने मोनिका को कहा मैं तुम्हारे स्तनो पर अपने वीर्य को गिरा रहा हूं मैंने अपने लंड को बाहर निकाला और अपने लंड को हिलाना शुरू किया तो मेरा वीर्य मेरे अंडकोष से बाहर आ चुका था मेरा वीर्य मोनिका के स्तनों पर गिरने वाला था। जैसे ही मैंने अपने वीर्य की पिचकारी से मोनिका के स्तनों को सफेद कर दिया तो मोनिका खुश हो गई और कहने लगी आज तुमने मेरी जवानी को सफल कर दिया। मोनिका और मैं एक दूसरे के साथ सेक्स कर के बड़े ही खुश थे हम दोनों उसके बाद भी एक दूसरे के साथ सेक्स का मजा लेते रहते।


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


desi porn sex storiesdesi hindi sexy bfantarvasna video hdgandi kahani chudaibhai behan sex story hindilund ki pyasi auratkahani xxbehan bhai ki chudai ki storychudai ki letest kahanihindi sexy raviram storiesbeti ko jabardasti chodadesi chudai ki kahani comchudai story hotkachi kali ki chudaichudai mastसेकसी कहनि सिल पेक खेता मे कम करने वलि लडकीtutor ki chudaichut ka pani piyarandi ki chudai ki storykahani chudai kbhabhi ki moti chutchudai ki sexsex hindi stories downloadnew sex storysexy story hinde mचुदक्कड़ औरतों की चूत चोदीapni chachi k sath porn storys in hindi kamukaataantarvasna1bhabhiअंकल को गाली सुनकर गांड मराने मे बहुत मजा आता हैvidhwa bhabhi ki chudai videonaukrani ke sath sexkamwali ki gand mariwww boor ki chudainepali chudaiKhanechudaimeri mummy ko chodaodia sex kahani14 sal ki chutrasili chootkali ladki ki chudai22 March ki Hindi sexy kahanidevarbhabhisexloda aur chutgandu chudaijija sali ki chudai hindi meGufa me baba ka sexsabhi sagi risate daro ki chudai sex kahani hindistory chut chudaishadi mai chudaibur ki ghatak kahaniचुत को फाडता लंड वीडियो kahani bhabhi ki chudai kigandu ki kahanixossip hindi storyjija sali ki storychudai kaise karte haibadi gaand auntygaand marnaDulhan ke saved chut ke chudai hindi khanibhabhi ko choda story hindikamleelabhai bahan sex hindi storyantervasan bf sex storeynangi choot storysavita chudaisex kahani hindi mbest hindi sex story sitemeri jabardasti chudaimadarchod sexsasur ki chudai kahani